गजल : हाम्रो घुम्टे

हिमाल बनेर उदायौ किन
अत्यार अत्यास जुधायौ किन ?

कहिले लाली कहिले पाउडर
बहुरुप पस्कि भुलायौ किन ?

मोहित भै लट्ठायौ सधैभरि
ईशारा गरी झुलायौ किन ?

बहुरंगी गुरांसहरु फुलाई
रम्ने लतमा डुवायौ किन ?